सोनू सूद का ये वीडियो शेयर कर कांग्रेस ने बताया पंजाब का 'असली मुख्यमंत्री' कौन? नवजोत सिंह सिद्धू को झटका!

sidhu-shocked.webp

courtesy google

पंजाब में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के बीच लगातार अनबन देखी जा रही है। सिद्धू लगातार खुद को पंजाब के सीएम फेस के तौर पर खुद को आगे रख रहे हैं। लेकिन कांग्रेस पार्टी ने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक ऐसा वीडियो शेयर किया है, जिसे देखने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू का जोरदार झटका लगा है। बेशक पंजाब में कांग्रेस विधानसभा चुनाव बिना सीएम चेहरे के लड़ेगी। लेकिन चुनाव के बाद सीएम कौन होगा, इसके संकेत पार्टी ने इस वीडियो के जरिए दे दिए है। ये वीडियो अब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

यह भी पढ़ें- 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों को महंगाई भत्ते के साथ फिटमेंट फैक्टर की सौगात भी, देखें सैलरी में कितना होगा इजाफा

दरअसल, कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक्टर सोनू सूद का एक वीडियो साझा किया। इस वीडियो में सोनू सूद कह रहे हैं कि 'असली मुख्यमंत्री वह है जिसे जबरदस्ती कुर्सी पर लाया जाए और उसे बताना न पड़े कि मैं सीएम पद के लिए डिजर्व करता हूं। सीएम ऐसा हो जो बैकबेंचर हो और उसे पीछे से उठाकर कहा जाए कि तुम डिजर्व करते हो और तुम बनोगे। जब वह सीएम बनेगा तो देश बदल सकता है।' बाद में वीडियो में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की तस्वीरें दिखाई देती हैं। राजनीतिक गलियारों में यह वीडियो चर्चा का विषय बना है।

यह भी पढ़ें- शनि देव ने इस राशि वाले लोगों से ली दुश्मनी, अब जिंदगी में लाएंगे 'भूचाल', तबाह कर देंगे घर परिवार

इस वीडियो के बाद से सिद्धू का पत्ता कटता हुआ नजर आ रहा है। नवजोत सिंह सिद्धू लगातार पंजाब में सीएम चेहरा घोषित करने की मांग हाईकमान से करते रहे हैं। उन्होंने यहां तक कह दिया है कि पंजाब का सीएम चेहरा हाईकमान नहीं बल्कि पंजाब के लोग तय करेंगे। आपको बता दें कि पंजाब में 117 कुल विधानसभा सीटें हैं। इनमें से 34 सीटें आरक्षित हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में 34 आरक्षित सीटों में से 21 पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी। कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस ने 117 सीटों में से 77 पर जीत दर्ज की थी। आम आदमी पार्टी ने पहली बार 2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव लड़ा और 20 सीटों पर कामयाबी हासिल की। वहीं शिरोमणि अकाली दल को 15 सीटें ही मिली थीं।