Agniveer Recruitment 2022: इन खास लोगों को अग्निवीर भर्ती में मिलने वाला है बड़ा फायदा- देखें आपको कैसे मिलेगा

इन-खास-लोगों-को-अग्निवीर-भर्ती-में-मिलने-वाला-है-बड़ा-फायदा.webp

इन खास लोगों को अग्निवीर भर्ती में मिलने वाला है बड़ा फायदा

केंद्र सरकार द्वारा लॉन्च किया गये 'अग्निपथ भर्ती योजना' को लेकर देश के कई राज्यों में मचा बवाल अब थम गया है। इस योजना के तहत युवाओं को चार साल तीनों सेनाओं में काम करने का अवसर मिलेगा। अग्निपथ योजना को लेकर कई राज्य सरकारों ने अपने यहां चार साल बाद इन अग्निवीरों को कई सरकारी विभागों में आरक्षण देने की बात कही है। इसके साथ ही कई देश के दिग्गजों ने भी इसका स्वागत करते हुए अग्निवीरों को अवसर देने की घोषणा की है। वहीं, अग्निवीरों की भर्ती में सबसे ज्यादा फायदा उन नौजवानों को हो सकता है जिन्होंने टैक्निकल यानी ITI या इससे संबंधित कोई कोर्स किया हो।

सेना की नीति यह है कि यदि उम्मीदवार पहले से तकनीकी कोर्स कर चुके होंगे तो भर्ती के बाद होने वाले छह महीने के प्रशिक्षण में उन्हें जल्दी पारंपगत बनाना संभव होगा। सैन्य मामलों के विभाग के सूत्रों का कहना है कि, वायुसेना और नौसेना में सैनिकों का कार्य पूर्ण रूप से तकनीकी होता है। अग्निवीर को भी तकनीकी काम ही करना होगा। अब तक की व्यवस्था के अनुसार, नौजवानों को भर्ती करने के बाद वायुसेना और नौसेना जरूरतों के हिसाब से प्रशिक्षण देती हैं। लेकिन यदि नौजवानों ने पहले से तकनीकी कोर्स कर रखा है तो उसे अग्निवीर नियुक्त होने के बाद कम समय में प्रशिक्षित करना संभव हो सकेगा।

यह भी पढ़ें- NSA डोभाल की जुबानी, Agnipath की पूरी कहानी, 4 साल बाद क्या-क्या करेंगे अग्निवीर!

सेना में जवानों का कार्य तकनीकी और युद्धक दोनों होता है। लेकिन सेना द्वारा निकाली गई भर्तियों में कम से कम दो श्रेणियां तकनीकी हैं जिनमें तकनीकी कोर्स कर चुके नौजवानों के चुने जाने की संभावना ज्यादा होगी। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि नौजवानों का तकनीकी ज्ञान का फायदा यह है कि उसे कम समय में प्रशिक्षण देकर भी तैयार किया जा सकेगा क्योकि उसका बेसिक पहले से ही मजबूत है। वहीं, सेना के सूत्रों ने यह भी कहा कि, भर्ती के लिए निकलने वाले विज्ञापनों में इस बात को प्रचारित किया जाएगा ताकि अधिक से अधिक तकनीकी योग्यता वाले उम्मीदवार भी आवेदन करें। तकनीकी योग्यता के साथ नौजवानों को सेना में भर्ती के अन्य तय मापदंडों को पूरा करना जरूरी होगा। ये मापदंड पहले की तरह हैं और इनमें कोई रियायत नहीं दी जाएगी।