देश को मिली First Woman Combat Aviator, कैप्टन अभिलाषा बराक 'अपाचे' के साथ उतरेंगी मैदान-ए-जंग में

First-fighter-woman-Aviator.webp

कैप्टन अभिलाषा बराक First Woman Combat Aviator, उड़ाएंगी लड़ाकू हेलीकॉप्टर

भारतीय सेना के मुताबिक, एविएशन कोर के इतिहास में ये स्वर्णि अक्षरों में लिखा जाने वाला दिन है क्योंकि, पहली बार कोई महिल अफसर कॉम्बेट-एविएटर के तौर पर चुनी गई है। बुधवार को नासिक स्थित कॉम्बेट आर्मी एविएशन ट्रेनिंग स्कूल के दीक्षांत समारोह में कैप्टन अभिलाषा बराक सहित कुल 36 आर्मी पायलट्य को 'विंग्स' प्रदान किए गए। एविएशन कोर के महानिदेशक, लेफ्टिनेंट जनरल अजय कुमार सूरी ने कैप्टन अभिलाशा सहित सभी पायलट्स को विंग्स प्रदान किए। इस विंग्स के प्रदान करने के बाद ये सारे पायलट्स सेना के रुद्र और लाइट कॉम्बेट हेलीकॉप्टर यानि एलसीएच उड़ाने के लिए तैयार हो गए हैं।

अभिलाषा 36 सेना पायलट के साथ प्रतिष्ठित विंग से सम्मानित किया गया है। सेना के बताया कि 15 महिला अधिकारियों ने आर्मी एविएशन में शामिल होने की इच्छा जताई थी लेकिन केवल दो अधिकारियों का ही पायलट एप्टीट्यूड बैटरी टेस्ट और मेडिकल के बाद चयन हुआ। दरअसल, पिछले साल जून में पहली बार 2 महिला अधिकारियों का चयन हेलिकॉप्टर पायलट ट्रेनिंग के लिए किया गया था। दोनों को नासिक के कॉम्बैट आर्मी एविएशन ट्रेनिंग स्कूल में ट्रेनिंग दी गई थी। सेना के मुताबिक 15 महिला अधिकारियों ने आर्मी एविएशन में शामिल होने की इच्छा जताई थी। हालांकि, एविएशन डिपार्टमेंट में महिलाओं को एयर ट्रैफिक कंट्रोल (ATC) और ग्राउंड ड्यूटी (DG) की जिम्मेदारी दी जाती है। लेकिन, अब ये पायलट की जिम्मेदारी संभालेंगे।

कैप्टन अभिलाषा बराक को कॉम्बैट एविएटर के तौर पर आर्मी में शामिल किया गया है। वो पहली महिला हैं जो इस मुकाम तक पहुंची है। अभिलाषा बराक को डायरेक्टर जनरल और कर्नल कमांडेंट आर्मि एविएशन द्वारा 36 आर्मी पायलटों के साथ प्रतिष्ठित विंग्स से सम्मानित किया गया। आर्मी ने ट्वीट करते हुए कहा कि, युवा एविएटर्स अब कॉम्बैट एविएशन स्क्वाड्रन में अपने पंख फैला रहे हैं। बता दें कि, साल 2018 में वायु सेना की फ्लाइंग ऑफिसर अवनि चतुर्वेदी लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला बनी थी।