Corona की तरह पैर पसारने लगा है Monkeypox, दिल्ली में मिले एक और मामले से मचा हड़कंप

Delhi-New-Monkeypos-case.webp

दिल्ली में मंकीपॉक्स का मिला एक और मामला

कोरोना महामारी ने दुनियाभर में जमकर तबाही मचाई। इसके चलते दुनिया की अर्थव्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। हाल यह हो गया कि, कई देशों में महंगाई बढ़ गई। व्यापार बंद होने के चलते कई देशों में महंगाई अपने चरम पर पहुंच गई। जिसके चलते दैनिक चीजों के दामों में भारी वृद्धि हो गई। कोरोना वायरस ने भारत में भी जमकर तबाही मचाई। राजधानी दिल्ली की बात करें तो इस छोटे से दिल्ली में कोरोना के मामले जब मिलने शुरू हुए तो सरकार के रातों की नींदे उड़ गई। आलम यह हुआ कि, अस्पतालों में मरीजों के लिए जगह नहीं बची और श्मशानों में शव को जलानें के लिए कई किलोमीटर तक कतारें। ऑक्सीन की भारी कमी देखने को मिला, जिसके चलते कई मरीजों की जान चली गई। कोरोना तो अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है लेकिन, इसके साथ ही अब मंकीपॉक्स भी धीरे-धीरे पैर पसारना शुरू कर दिया है। दिल्ली में एक और केस मिलने के बाद हडकंप मच गया है।

दिल्ली में 31 वर्षीय महिला मंकीपॉक्स से संक्रमित हुई है। वहीं अब देश में मंकीपॉक्स के मरीजों की संख्या नौ हो गई है। दिल्ली में अब तक मंकीपॉक्स के चार मामले सामने आ चुके हैं। दो मरीजों का इलाज लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में चल रहा है। देश में पहली बार कोई महिला मंकीपॉक्स पॉजिटिव पाई गई है। ये महिला नाइजीरिया की रहने वाली है, जो फिलहाल वेस्ट दिल्ली में रहती थी। महिला को एक दिन पहले ही डीडीयू अस्पताल से लोकनायक अस्पताल रेफर किया गया था।

दिल्ली सरकार के मुताबिक, जरूरत पड़ने पर अस्पतालों और आइसोलेशन रूम की संख्या को और बढ़ाया जा सकता है। इन सभी अस्पतालों में मंकीपॉक्स संक्रमण से लड़ने के लिए WHO द्वारा निर्धारित मानकों को ध्यान में रखते हुए सभी व्यवस्था की गई है। दिल्ली सरकार ने मंकीपॉक्स के बढ़ते मामले को देखते हुए तैयारियां तेज कर दी है। इसे लिए लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में 20आइसोलेशन रूम, गुरुतेग बहादुर अस्पताल में 10 आइसोलेशन रूम और डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर अस्पताल में 10 आइसोलेशन रूम आरक्षित किए गए हैं। इसके साथ ही तीन प्राइवेट तीन प्राइवेट अस्पतालों में भी 10-10 आइसोलेशन रूम की व्यवस्था की गई है, जिनमें कैलाश दीपक अस्पताल, MD सिटी अस्पताल और बत्रा हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर तुगलकाबाद शामिल हैं।

16 हजार से ज्यादा मामले

बता दें कि, 23 जुलाई तक दुनियाभर के 75 देशों में मंकीपॉक्स के 16 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके थे, जिसके बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंकीपॉक्स को पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दिया। भारत में भी अब तक मंकीपॉक्स के नौ मामले सामने आए हैं, जिनमें से चार मामले दिल्ली के हैं। इनमें से दो मरीजों का लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में इलाज चल रहा था। एक मरीज के ठीक होने के बाद बीते सोमवार रात को उसे छुट्टी दे दी गई।

लक्षण

देश में मंकी पॉक्स के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने दिशा-निर्देश जारी किए थे, जिसमें कहा गया था कि पिछले 21 दिनों के भीतर मंकीपॉक्स से प्रभावित देशों की यात्रा करके लौटने वाला किसी भी उम्र के व्यक्ति में अगर ये लक्षण दिखे तो उसके लिए खतरा ज्यादा है।

सूजे हुए लिम्फ नोड्स

बुखार

सिरदर्द

शरीर में दर्द या कमजोरी के साथ गहरे दाने होने जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं तो वह मंकीपॉक्स से संक्रमित संदिग्ध हो सकता है।

बचाव

ऐसे मरीजों के सीधे संपर्क में आने से बचें

संक्रमित द्वारा इस्तेमाल की गई चीजों जैसे कपड़े, बिस्तर या बर्तन का इस्तेमाल न करें

इससे यह बीमारी दूसरों में भी फैल सकती है।