Follow Us:

अकाल तख़्त ने गुरु ग्रंथ साहिब की प्रतियां गायब होने पर गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी को लगाई फटकार

आईएएनएस अपडेटेड September 19, 2020 13:11 IST
स्वर्ण मंदिर

अकाल तख्त ने शुक्रवार को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के अधिकारियों को सिखों के पवित्र ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब की 300 से अधिक प्रतियों के गायब होने के लिए जिम्मेदार ठहराया। अकाल तख्त के कार्यवाहक जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने अन्य जत्थेदारों की उपस्थिति के बीच, एसजीपीसी के कार्यकारी निकाय को लापरवाही के लिए दोषी ठहराया, जिसके कारण 2013 और 2015 के बीच गुरु ग्रंथ साहिब की 328 ‘सरूप’ या प्रतियां गायब हो गईं।

गुरु ग्रंथ साहिब को केवल एसजीपीसी द्वारा मुद्रित और वितरित किया जा सकता है, जो एक 100 वर्षीय संगठन है जो देश भर के ऐतिहासिक गुरुद्वारों का प्रबंधन करता है।

गलती को स्वीकार करते हुए, एसजीपीसी के अध्यक्ष गोबिंद सिंह लोंगोवाल ने सार्वजनिक रूप से माफी मांगी। इसके अलावा एसजीपीसी के अधिकारियों, जिनमें लोंगोवाल शामिल हैं, ने ‘वाहेगुरु जाप’ करते हुए स्वर्ण मंदिर की परिक्रमा की।

अकाल तख्त मंच से सुनाई गई सजा के तहत एसजीपीसी कार्यकारी निकाय को धार्मिक या सार्वजनिक कार्यक्रमों में भाग लेने से 17 अक्टूबर तक के लिए रोक दिया गया है।

वे हालांकि 28 सितंबर को निर्धारित वार्षिक बजट सत्र में भाग ले सकते हैं।

साथ ही, एसजीपीसी के कार्यकारी सदस्यों को गुरुद्वारा सारागढ़ी निवास से गुरुद्वारा हरमंदिर साहिब, की ओर जाने वाली सड़क को तीन दिनों तक रोजाना से साफ करने का निर्देश दिया गया है। हरमिंदर साहिब स्वर्ण मंदिर के नाम से लोकप्रिय है।

To Top