Follow Us:

छठ पूजा 2020 : पारंपरिक और आधुनिक छठ गीतों से गूंज रहा बिहार

गीतों के बिना छठ पूजा का लोक पर्व अधूरा माना जाता है। बिहार की गलियों से लेकर सड़कों तक पर शारदा सिन्हा के गाए पारंपरिक से लेकर युवा गायकों के आधुनिक छठ पूजा के गीत गूंज रहे हैं।

आईएन ब्यूरो अपडेटेड November 19, 2020 17:42 IST
Devotees perform rituals on the banks of the Ganga river during chhath
18 नवंबर, 2020 को पटना में 'छठ' पूजा के अवसर पर 'नहाय खाय' के दौरान भक्त गंगा नदी के तट पर अनुष्ठान करते हुए। (फोटोःआईएएनएस)

लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा को लेकर पूरा बिहार जहां भक्तिमय हो गया है, वहीं राज्य की गलियों से लेकर सड़कों तक पर पारंपरिक से लेकर आधुनिक मधुर और कर्णप्रिय छठ पूजा के गीत गूंज रहे हैं। गौरतलब है कि छठ गीतों में जहां पारंपरिक गीतों की मांग अभी भी बनी हुई है वहीं नए कलाकारों द्वारा गाए गए गीतों से भी पूरा माहौल भक्तिमय हो गया है।

लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा बुधवार को नहाय-खाय के साथ शुरू हो गया है। महापर्व छठ को लेकर बिहार में चहल-पहल दिखने लगी है। जिनके घरों में छठ पूजा हो रही है, वे लोग शेष जरूरत के सामानों के खरीदने के लिए बाजार निकले हुए हैं। गुरुवार की शाम व्रती खरना करेंगे।

कहा भी जाता है कि गीतों के बिना छठ पर्व अधूरा माना जाता है, और जब छठ गीतों की बात हो और शारदा सिन्हा की आवाज की बात नहीं हो, तो फिर बात पूरी नहीं हो सकती। राजधानी की सड़क हो या मंदिर सभी ओर शारदा सिन्हा के ‘कांच ही बांस के बहंगिया, बहंगी लचकत जाए’ गूंज रहे हैं। प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी अनेक भोजपुरी गायकों के नए-नए छठ गीत ऑनलाइन माध्यमों पर उपलब्ध हैं।

‘केलवा जे फरेला घवद से, ओह पर सुगा मेडराय’, चारों पहर राति, जल थल सेवली, चरण तोहर हे छठी मईया’, काच ही बास के बहंगिया बहंगी लचकत जाय’ जैसे पारंपरिक गीत आज भी लोगों को पसंद आ रहे हैं। लोक कलाकार शारदा सिन्हा के अलावा मालिनी अवस्थी, कल्पना, मनोज तिवारी और पवन सिंह के गीत भी लोग पसंद कर रहे हैं।

भोजपुरी की गायिका और लोकप्रिय अभिनेत्री अक्षरा सिंह के गाये ‘बनवले रहिह सुहाग’ को भी लोग पसंद कर रहे हैं। अक्षरा हर साल छठ पूजा पर नए गाने लेकर आती हैं, मगर यह गाना उन सबसे काफी अलग है। ‘बनवले रहिह सुहाग’ में छठ मईया की महिमा के साथ – साथ एक दिल छू लेने वाले इमोशन भी हैं।

छठ गीतों में अब आधुनिकता का भी समावेश दिख रहा है। नए कलाकार भी छठ मईया के गीत खूब गा रहे हैं। नए कलाकारों द्वारा गाये छठ गीतों की ऑनलाइन ऐप और यूटयूब चैनलों पर भी लोग सुन रहे हैं।

पटना की रहने वाली गायिका अक्षरा सिंह आईएएनएस से कहती हैं, “मेरी कोशिश रहती है कि सभी पर्वों में कोई नया गाना लाऊं। छठ जैसे महापर्व पर तो कई सालों से नया गाना ला रही हूं। इस पर्व के गीतों में भी इतनी आस्था है कि गीत बजते ही लोगों का सिर श्रद्धा से झुक जाता है। श्रद्धालु पुराने गायकों के साथ-साथ नए गायकों को भी सुनना चाहते हैं।”

उन्होंने कहा कि जिन्हें भोजपुरी नहीं भी समझ में आती है, उनकी भी छठ की गीत के प्रति श्रद्धा होती है। उन्हें भी छठ के गीत कर्णप्रिय लगते हैं।

To Top