Follow Us:

वीडियो


पाकिस्तान में इमरान सरकार के खिलाफ बगावत शुरू हो गयी है। इसकी शुरुआत कराची से हुई है। कराची में तैनात पुलिस और आर्मी अफसरों ने सामुहिक तौर पर छुट्टी की अर्जियां लगा दी हैं। बताया जा रहा है कि छुट्टी की ये अर्जियां नवाज शरीफ के दामाद और मरियम नवाज के पति सफदर अवान की गिरफ्तारी के विरोध में दी गई हैं। हालांकि, सफदर को जमानत मिल गई है। बाजवा ने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं। ऐसा भी बताया जा रहा है कि पुलिस अफसरों का कहना है आर्मी सिविल रूल पर हावी हो रही है तो वहीं कुछ बड़े अफसर भी मुल्क के हालातों से नाराज हैं और उन्होंने भी मास लीव का नोटिस दिया है लेकिन बाजवा ने उनके नोटिस पर ही सेंसर लगा दिया है।


पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के ऊपर एक और आफत टूटने वाली है। दो दिन बाद एफएटीएफ ऐलान करने ही वाला है पाकिस्तान फिलहाल ग्रे लिस्ट से बाहर नहीं आएगा। अगर मलेशिया बाकी सदस्य देशों के साथ आ गया तो पाकिस्तान ब्लैक लिस्ट भी हो सकता है। ब्लैक लिस्ट से बचाने के लिए तीन देशों के समर्थन की जरूरत है। तुर्की, चीन मलेशिया से परंपरागत मिलने की संभावना है। चीन के विदेश मंत्री वांग ई इसी सिलसिले में मलेशिया गए भी थे। लेकिन इस समय मलेशिया की कमान पाक सेंट्रिक महातिर मोहम्मद के हाथों में नहीं बल्कि मोहिउद्दीन यासीन के हाथ में है। मोहिउद्दीन यासीन ने भारत के साथ संबंध सुधारने के दिशा में कई कदम उठाए हैं। अगर मलेशिया भारत के रुख का समर्थन करता है तो फिर पाक का ब्लैक लिस्ट होना तय है। वरना, ग्रे लिस्ट तो पक्की है क्यों कि ग्रे लिस्ट से बचने के लिए उसे 12 सदस्य देशों का समर्थन चाहिए। वो उसे लाख कोशिशों के बाद भी मिलना असंभव है।


इमरान खान ने कुर्सी पर बैठते ही जो राह पकड़ी उसके आखिरी सिरे पर पाकिस्तान का काम-तमाम है। भारत से रिश्ते सुधारने के बजाए धमकी और भारतीय प्रधानमंत्री के बारे में ओछी बातें करने, पाकिस्तान के भ्रष्टाचारियों को बढ़ावा देने, सियासी प्रतिद्विंदियों के जेल में ठूंसने और आर्मी पर हद से ज्यादा निर्भर हो जाने से पाकिस्तान गर्त में जा रहा है। असीम बाजवा के इस्तीफे के बाद सेना अब सरकारी ओहदों से अपने जनरलों को वापस लेने जा रही है। ऐसे पाकिस्तान के कुछ विपक्षी नेताओं ने इमरान खान को मश्विरा दिया है कि दुश्मनी भूल भारत से दोस्ती कर लो, इसी में पाकिस्तान का भला है।


तंजानिया के लोगों का पीएम मोदी से दिल का रिश्ता है। वो भी चाहते हैं कि पीएम मोदी भारत और विश्व को दिशा देते रहें। कम से कम फादिल अली के इस गाने से तो यही साबित होता है।


लगभग लगभग महीने में 10 मिसाइलों की टेस्ट फायर, 'शौर्य' मिसाइल की एलएसी पर तैनाती और वायुसेना के बेड़े में 'राफेल' शामिल होने से पाकिस्तान के होश उड़े हुए हैं। पाकिस्तान को डर है कि भारत 15 नवंबर के आस-पास हमला कर सकता है। क्यों कि चीन की शह पर इमरान खान ने 15 नवंबर को गिलगिट में चुनाव का ऐलान कर दिया है। लेकिन पाकिस्तान की सेना में भारत की आर्मी-नेवी और एयरफोर्स किसी के सामने भी टिकने की हिम्मत नहीं है। पाकिस्तान के आर्मी चीफ ने जमीनी लड़ाई के लिए मैदान भले ही खाली करवा लिया है लेकिन चीनी हथियारों के भरोसे भारत से जंग करने में उनकी भी हवा शंट हो रही है। चीन, भारत-पाक की जंग में कभी शामिल नहीं होगा। यह चीन का इतिहास भी रहा है। चीन एलएसी पर दबाव तो बढ़ाने की साजिश तो करेगा लेकिन अगर भारत ने गिलगिट के चुनाव से पहले पाकिस्तान पर हमला कर दिया तो पाकिस्तान नेस्तनाबूद हो जाएगा। यह डर पाकिस्तानी फौजी अफसरों को सता रहा है।


बिहार में किन मुद्दों के साथ भाजपा और गठबंधन दल चुनाव में उतर रहे हैं? NDA से बिहार में क्यों अलग हुई लोक जनशक्ति पार्टी? सभी मुद्दों पर देखिए धर्मेंद्र सिंह के सवाल और डॉ. संजय पासवान के जवाब. बिहार में NDA की सरकार है. कोरोना काल में यह पहला चुनाव है और लोगों में उत्सुकता है कि NDA गठबंधन किन मुद्दों पर चुनाव लड़ेगा? जातीय समीकरण क्या रहेंगे और सूबे को लेकर पार्टी की क्या योजना है? बिहार से जुड़े सभी मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. संजय पासवान ने.


लंदन में रहने वाले एक पाकिस्तानी नागरिक आरिफ अजाकिया ने इमरान खान के गाल पर झन्नाटेदार तमाचा जड़ा है। आरिफ अजाकिया ने बेखौफ कहा है कि वो जन्मे, पढ़े-बढ़े जरूर कराची पाकिस्तान में हैं लेकिन दिल से हिंदुस्तानी है। भारत उनका राष्ट्र है। अजाकिया ने हिंदुस्तान में रहने वाले दोगलों को परोक्ष तौर पर लताड़ा है। अजाकिया ने कहा है जो नेशनलिस्ट है चाहे वो हिंदु या मुसलमान, जो हिंदुस्तान के हित की बात करता है वो उनका भाई है, असली हिंदुस्तानी है।

To Top