Ukraine में रूसी हमले तेज, US-NATO से Putin बोले, रोक सको तो रोक लो! हिटलर की तरह...

Vladimir-Putin-की-पश्चिमी-देशों-को-कड़ी-चुनौती.webp

Vladimir Putin की पश्चिमी देशों को कड़ी चुनौती

रूस और यूक्रेन के बीच जंग का आज 78वां दिन हैं और बीतो दिनों यानी 9 मई को रूस ने विजय दिवस मनाया। पहले से ही कहा जा रहा था कि रूस विजय दिवस के दिन राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन कोई बड़ा ऐक्शन ले सकते हैं और हुआ भी कुछ ऐसा ही। बीते दिनों यूक्रेन पर रूसी सेना ने जमकर हमले किये। इसके साथ ही विक्ट्री डे के मौके पर पुतिन ने पश्चिमी देशों को जमकर सुनाया। उन्होंने कहा कि, यह युद्ध पश्चिमी नीतियों के विरुद्ध जवाब है। उन्हीं के चलते आज यह हालत है।

पुतिन ने कहा कि, रूस ने पश्चिमी देशों से एक ईमानदार बातचीत का आह्वान किया था, लेकिन सभी व्यर्थ नाटो देश इसे सुनना नहीं चाहते थे। उन्होंने कहा कि, नाटो देश उन्हें बिल्कुल भी सुनना नहीं चाहते थे और उनकी पूरी तरह से अलग योजनाएं थीं। उन्होंने यूक्रेन में रूस की कार्रवाई की तुलना द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान हुई सोवियत लड़ाई से की है। उन्होंने कहा कि, यूक्रेन में रूस की सैन्य कार्रावाई पश्चिमी देशों की नीतियों के खिलाफ सही समय पर दिया गया उचित जवाब है। रूस, यूक्रेन में अपनी मातृभूमि की रक्षा कर रहा है। यह हमारी जिम्मेदारी है कि हर वह चीज करें जिससे दुनिया में युद्ध फिर दोबारा न हो। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, यूक्रेन जंग में हम वैसे ही जीतेंगे जैसे दूसरे विश्व युद्ध में हमने हिटलर की नाजी सेना को जीता था। यूक्रेन में रूसी कार्रवाई पश्चिमी देशों की नीतियों के एक जवाब है। इस दौरान 11 हजार सैनिकों ने परेड निकाली।

बता दें, द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मनी पर तत्कालीन सोवियत संघ की जीत की याद में रूस विजय दिवस मनाता है। यह जीत नौ मई को ही मिली थी। इस दौरान रूसी राष्ट्रपति लाल चौक से भाषण दिया। उन्होंने कहा कि, हमारे पूर्वज जिस तरह देश की जमीन को नाजी गंदगी से मुक्त कराने के लिए लड़े थे उसी तरह हमारे सैनिक आज लड़ाई के मैदान में जुटे हैं। जीत हमारी ही होगी। उधर विजय दिवस के मौके पर यूक्रेन का हालात खराब है। रूसी सेनाओं ने हमले बढ़ा दिए है। इस्पात संयंत्र को छोड़कर पूरे मैरियूपोल पर कब्जा कर लिया है और जल्द ही ये भी कब्जे में होगा।

रूसी राष्ट्रपति ने कहा, हमारा कर्तव्य है कि नाजीवाद के फिर से होने वाले जन्म को रोका जाए। उन्होंने कहा, दुख की बात है कि नाजीवाद एक बार फिर सिर उठा रहा है, हम इसे रोकेंगे। पुतिन ने कहा कि यह हमारी पवित्र जिम्मेदारी है कि जिन लोगों को हमने द्वितीय विश्व युद्ध में हराया था, उनके उत्तराधिकारियों को फिर हराएं। उन्होंने रूसियों से बदले की अपील की।