FabIndia को याद आई Diwali, बदल डाला Slogan, 'Jhilmil Si Diwali' से होगा नया कैंपेन

Jhilmil-Si-Diwali.webp

courtesy google

 इंडिया अपनेफैब फेस्टिव कैंपेन को लेकर खूब चर्चाओं में हैं। फैब इंडिया के 'जश्न-ए-रिवाज' कैंपेन पर खूब बवाल हो रहा हैं। हिंदू धर्म के लोगों ने इस कैंपेन को विरोधी करार दिया। लोगों का कहना हैं कि हिंदू त्योहार में जबरन मुस्लिम विचारधारा को जोड़ा जा रहा हैं। इससे हिंदू धर्म के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंची हैं। लोगों का गुस्सा देख कंपनी ने इस कैपेंन का नाम बदलकर 'झिलमिल सी दीवाली' कर दिया हैं। कंपनी ने नाम बदलकर लोगों का गुस्सा ठंडा करने की कोशिश की हैं। कंपनी का कहना हैं कि वो जल्द ही 'झिलमिल सी दीवाली' को लेकर एक प्रोमो लॉन्च करेगी।    

'जश्न-ए-रिवाज' कैंपेन के विवाद को लेकर फैब इंडिया ने अपने बयान में कहा कि कंपनी का प्रमोशनल कैप्सूल 'जश्न-ए-रिवाज' भारतीय परंपरा के लिए था। इसका दीपावली से कोई सीधा संबंध नहीं है। बवाल बढ़ने के बाद कंपनी को ये ट्वीट  डिलीट करना पड़ा। इस ट्वीट में कंपनी ने एक ट्वीट में लिखा- 'दिवाली का हम प्यार और प्रकाश के त्योहार के तौर पर वेलकम करते हैं, फैब इंडिया का जश्न-ए-रिवाज एक ऐसा कलेक्शन है, जो इंडियन कल्चर की खूबसूरती को दिखाता है।' फैशन मैगजीन वोग में हाल ही में इस कैंपन से जुड़ा एक आर्टिकल भी पब्लिश हुआ था।

'जश्न-ए-रिवाज' कैंपेन से नाराज होकर लोगों ने फैब इंडिया का बहिष्कार करना शुरु कर दिया। इस कड़ी में बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने कहा कि 'दिवाली जश्न-ए-रिवाज नहीं हैं, कंपनी की ओर से जानबूझकर यह दुस्साहस भरा कदम उठाया गया है। फैब इंडिया को इसका आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा। वहीं भाजपा यूपी के प्रवक्ता प्रशांत उमरांव ने भी फैब इंडिया पर निशाना साधते हुए कहा कि फैब इंडिया के कपड़े बहुत महंगे हैं धोने के बाद बेकार पड़ जाते हैं। लोगों को अब दूसरे ब्रांड में शिफ्ट होने की जरूरत है।'