क्ररूता पर उतरा ड्रैगन! गर्भवती महिलाएं, बच्चों और बुजुर्गों को जबरन बक्से में कैद रहा चीन, देखें वीडियोज

China-is-forcibly-putting-people.webp

courtesy google

कोरोना से दुनियाभर में कहर बरपाया हुआ है। सबसे ज्यादा केस चीन में देखने को मिल रहे है। कोविड में काबू पाने के लिए चीन की सरकार ने वैक्सीन, मास्क, लॉकडाउन जैसी कई कदम उठाएं, लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। ऐसे में चीन में क्ररूता पर उतर आया है और कोविड पॉलिसी' के तहत लाखों लोगों को क्वारंटाइन के नाम पर बंद कर रहा है। कोरोना संक्रमित मरीजों को मेटल बॉक्सों में कैद किया जा रहा है। आपको बता दें कि अगले महीने चीन विंटर ओलिपिंक की मेजबानी करने वाला है, इसे देखते हुए सख्ती और बढ़ा दी गई है।

सोशल मीडिया में चीन के वीडियो वायरल हो रहे हैं। वीडियो में गर्भवती महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को भी मेटल के इन बॉक्सों में रखा जा रहा है। वीडियो में आप देख सकते है कि किस तरह यहां मेटल के बॉक्स में क्वारंटीन रूम बनाया गया है। संक्रमित या उनके आसपास के लोगों को इन्हीं बॉक्स में कैद करके रखा जा रहा है। यह प्रताड़ना गर्भवती महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को भी झेलनी पड़ रही है। मेटल के इन बॉक्स में लोगों को 2 हफ्ते तक क्वारंटीन रखा जाता है। इसमें लकड़ी के पलंग और टॉयलेट की सुविधा दी गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक, वहां अगर किसी एरिया में कोविड का एक भी मरीज मिल रहा है तो पूरे इलाके के लोगों को क्वारंटीन में डाला जा रहा है। प्रशासनिक टीम आधी रात को आती है और बसों में भरकर इन्हें इन क्वारंटीन कैंपों में ले जाती है। उन्हें अचानक ही घर छोड़ने को कहा जाता है। चीन में संक्रमितों व उनके संपर्क में आए लोगों का पता लगाने की भी सख्त नीति है। इसके तहत हर व्यक्ति को 'ट्रैक एंड ट्रेस' एप्स अपने मोबाइल में रखना जरूरी है। इसके जरिए किसी व्यक्ति के संक्रमित होने पर उसके संपर्क में आए सारे लोगों का पता लगाकर उन्हें क्वारंटीन कैंपों में भेज दिया जाता है।