चीन की कुत्सित चालों का नतीजा भुगत रहा Sri Lanka, इस्तीफे के बाद उग्र भीड़ ने प्रधानमंत्री का घऱ फूंका

Sri-Lanka-Civil-War.webp

Srilanka में हालात बेकाबू

श्रीलंका में इस वक्ता हालात बेहद ही खराब हैं। पिछले एक महीने से ज्यादा समय से देश भयानक मंदी की मार झेल रहा है। खाने-पीने की चोजों के दाम आसमान छू रहे हैं। सरकार का विदेशी राजस्व खत्म हो चुका है और वो अर्थव्यवस्था को संभालने में नाकाम साबित हो रही है। सरकार के सभी मंत्री अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं। लोग सड़कों पर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। देश में इमरजेंसी लगाए जाने के बावजूद लोग सरकार के खिलाफ उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच दंगाइयों ने श्रीलंका के पूर्व पीएम महिंद्रा राजपक्षे के पैतृक घर को आग के हवाले कर दिया है।

प्रधानमंत्री महिंद्रा राजपक्षे के इस्तीफे के साथ ही श्रीलंका में हिंसा और भी ज्यादा भड़क गई है। दंगाइयों ने उनके पैतृक घर में आग लगा दी है। इसके अलावा सत्ताधारी पार्टी के कई सांसदों का घर जला दिया गया है। जानकारी के मुताबिक कुरुनेगला शहर में स्थित महिंदा राजपक्षे के पैतृक घर को सोमवार शाम प्रदर्शनाकरियों ने आग के हवाले कर दिया। इस बीच देश में इमरजेंसी लागू कर दी गई है। पुलिस ने पूरे देश में कर्फ्यू लगा दिया है लेकिन हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है।

श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर अर्जुन रणतुंगा ने देश में आगजनी के लिए श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना (एसएलपीपी) को जिम्मेदार ठहराया है। रणतुंगा ने कहा कि  श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना ने पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के आधिकारिक आवास पर लोगों को इकट्ठा किया। रणतुंगा ने ये भी कहा कि दंगाईयों को श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना ने सांसदों के घर के बाहर इकट्ठा किया। उनके घरे में आग लगाने के बाद राजपक्षे के परिवार की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सुरक्षा अधिकारियों ने राजपक्षे परिवार से मुलाकात की है।

बता दें कि, सोमवार को ही राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के कहने पर महिंद्रा राजपक्षे ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दिया था। कहा जा रहा है कि, बीती शाम देश के आए राजनीतिक संकट को लेकर राषट्रपति, प्रधानमंत्री और उनके कुछ खास लोगों के बीच बैठक हुई थी जिसके बाद राष्ट्रपति गोटबाया ने महिंद्रा राजपक्षे से कहा था कि वो अपने पद से इस्तीफा दे दें। उनके इस्तीफे के बाद से ही देश में हिंसा भड़क गई है।