North East India में बनेगा कुतुब मीनार से दोगुना दुनिया का सबसे ऊंचा रेल पुल

कुतुबमीनार-से-दोगुना-ऊंचा-होगा.webp

भारत बनेगा दुनिया का सबसे ऊंचा रेल पुल बनाने वाले देश

भारत अब पूरी दुनिया का सबसे ऊंचा रेल पुल बनाने जा रहा है। इसकी कितनी ऊंचाई होगी इसका इसी से अंदाज लगा लें कि यह कुतुबमीनार से भी लगभग दोगुनी है। पुल पूर्वोत्तर भारत में बनेगा। इसके बनने से मालगाड़ी चलने से लोगों को आवश्यक खाज्य सामग्री, दवाइयां इत्यादि की तेजी से आपूर्ति की जा सकेगी।

यह भी पढ़ें- RSS चीफ ने उड़ाई पड़ोसी मुल्क के हुक्मरानों की नींद

इसकी ऊंचाई 141 मीटर होगी। 110 किलोमीटर लंबी जिरीबाम-इंफाल रेल लाइन परियोजना के तहत नोने जिले में इसका निर्माण किया जा रहा है। इस क्षेत्र के इको सेंसिटिव जोन होने के कारण पुल को भूकंपरोधी बनाया जा रहा है। यह रिक्टर स्केल पर 8.5 तीव्रता के भूकंप के झटके आसानी से सह सकता है। यह परियोजना दिसंबर 2023 में पूरी हो जाएगी। पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे जोन के अधिकारियों ने कहा कि, जिरीबाम-इंफाल परियोजना के 110.625 किलोमीटर सेक्शन बेगायचंपो में 12 किलमीटर ट्रैक बिछाया जा चुका है। इस सेक्शन पर ट्रेन परिचालन भी शुर कर दिया गया है। मणिपुर की बड़ी आबादी इंफाल में रहती है। इस ट्रैक पर मालगाड़ी चलने से लोगों को आवश्यक खाद्य सामग्री, दवाइयां, पेट्रोलियम पदार्थ और इलेक्ट्रॉनिक सामान आदि की तेजी से आपूर्ति संभव हो पाएगी।

नोने रेल पुल परियोजना के प्रभारी संदीप शर्मा ने बताया कि जिरीबाम-इंफाल परियोजना पर छोटे-बड़े 151 रेल पुलों का निर्माण किया जा रहा है। इसमें विश्व के सबसे ऊंचे नोने रेल पुल के लिए सात पिलर का निर्माण किया जा रहा है। पांच पिलर बन चुके हैं और दो पर काम जारी है। दो पिलर की ऊंचाई 141 मीटर है। बाकी इससे छोटे हैं।

यह भी पढ़ें- एक कदम और आगे बढ़ी मोदी सरकार, पराली जलाना अपराध नहीं होगा

पिलर के ऊपर रेल ट्रेक बिछाने के लिए ढांचा रखा जाएगा, जिससे यह पुल कुतुबमीनार से दो गुना ऊंचा हो जाएगा। इस पुल की लंबाई 703 मीटर है। इस परियोजना में 46 टनल बनेंगी। उनके मुताबकि, जिरीबग-इंफाल परियोजना का 80 फीसदी काम पूरा हो चुका है। परियोजना पर कुल 14,322 करोड़ रुपए की लागत आएगी। इसमें 11 हजार करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं। इस पुल के बन जाने के बाद मणिपुर-असम के बीच रेल कनेक्टिविटी बनेगी।