आरएसएस चीफ के क्या हैं इरादे, बोले- हिंदू खुद को भूले न होते तो पाकिस्तान न बनता, इमरान खान की उड़ी नींद!

RSS-चीफ-ने-उड़ाई-पड़ोसी-मुल्क-के-हुक्मरानों-की-नींद.webp

RSS चीफ ने उड़ाई पड़ोसी मुल्क के हुक्मरानों की नींद

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि हिंदुस्तान एक हिंदू राष्ट्र है और उसका उद्गम हिंदुत्व था। हिंदू भारत से अभिभाज्य हैं और भारत हिंदू से अविभाज्य है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, यदि भारत में अपनी पहचान बनाए रखनी है तो उसे हिंदू बने रहना होगा तथा हिंदू यदि हिंदू बने रहना चाहते हैं तो भारत को 'अखंड' बनना ही होगा।

यह भी पढ़ें- RSS चीफ ने 'विभाजन के दर्द' का बताया ऐसा इलाज कि तेज हो गईं पाक पीएम इमरान खान के दिल की धड़कनें

भागवत ने मध्यप्रदेश के ग्वालियर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि, हिंदुओं के बिना भारत नहीं है और भारत के बिना हिंदू नहीं है। भारत और हिंदुओं को अलग नहीं किया जा सकता है। हिंदुओं के बिना कोई भारत नहीं है और भारत के बिना कोई हिंदू नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, हिंदुस्तान एक हिंदू राष्ट्र है जिसका उद्गम हिंदुत्व था तथा हिंदू एवं भारत अविभाज्य हैं। संघ प्रमुख ने कहा, कि, इतिहास गवाह है कि जब भी हिंदू 'भाव' (पहचान) को भूले, देश के सामने संकट खड़ा हो गया और वह टूट गया लेकिन अब (हिंदू का) पुनरूत्थान हो रहा है तथा भारत की प्रतिष्ठा वैश्विक रूप से बढ़ रही है। दुनिया भारत को निहार रही है और उसके लिए समाज के सभी वर्गों को मिलकर काम करना चाहिए।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख ने आगे कहा कि, यदि भारत को भारत बने रहना है तो उसे हिंदू बने रहना होगा और यदि हिंदू, हिंदू बने रहना चाहते हैं तो भारत को अखंड होना ही होगा। यह हिंदुस्तान है जहां हिंदू रह रहे हैं और अपनी परंपराओं का पालन कर रहे हैं। जिस किसी बात को हिंदू कहा जाता है, उसका विकास इसी भूमि में हुआ।

यह भी पढ़ें- यूपी की हवा बदल रही है! मुस्लिम दूल्हा-दुल्हनियों के साथ सीएम योगी आदित्यनाथ का आशीर्वाद

आगे उन्होंने कहा कि, हिंदुओं के बिना भारत नहीं है और भारत के बिना हिंदु नहीं है। विभाजन की बात करते हुए उन्होंने कहा कि, भारत का विभाजन हुआ और पाकिस्तान बना क्योंकि हम उस भाव (पहचान) को भूल गये कि हम हिंदू हैं। और इसे मुसलमान भी भूल गए। ब्रिटिश ने हिंदुत्व की पहचान को तोड़ दिया तथा भाषा एवं धर्म के आधार पर बांट दिया।