LPG गैस सिलेंडर की कीमतों में भारी कटौती, मिलेगा 100 रुपये से ज्यादा सस्ता

LPG-गैस-सिलेंडर-कीमतों-में-भारी-कटौती.webp

LPG गैस सिलेंडर कीमतों में भारी कटौती

LPG Cylinder Price 1st January 2022: नये साल पर गैस कंपनियों की तरफ से एलपीजी सिलेंडर की कीमतों में कटौती की गई है। यह कटौती 19किलोग्राम के कॉमर्शियल गैस सिलेंडर पर की गई है। IOCL के अनुसार 1जनवरी 2022को दिल्ली में काॅमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमत 102घटकर 1998.5हो गई हैं। बता दें, 31दिसंबर तक 19किलोग्राम वाले गैस सिलेंडर के लिए दिल्ली वालों को 2101रुपये देने होते थे। जहां चेन्नई में अब 19किलोग्राम एलपीजी सिलेंडर के लिए 2131रुपये तो वही मुंबई में 1948.50रुपये देने होंगे। नई कीमतें जारी होने के बाद कोलकाता में काॅमर्शियल गैस सिलेंडर अब आज से 2076रुपये में खरीदा जा सकता है।

यह भी पढ़ें- इस कंपनी के Share खरीदने वाले हुए मालामाल, एक लाख के बदले मिले 3.37 करोड़ रुपये- देखें कैसे

नए साल 2022के पहले ही दिन आम जनता को बड़ी राहत मिली है। सरकार की ओर से LPG सिलेंडर की कीमतों में भारी कटौती किया गया है जिसके बाद गैस 100से भी ज्यादा सस्ता हो गया है। गैस कंपनियों की ओर से एलपीजी सिलेंडर (LPG Gas Cylinder) कीमत में 102.50रुपए की राहत दी गई है। हालांकि, यह सिर्फ 19किलोग्राम वाले एलपीजी गैस सिलेंडर की कीमत में कटौती की गई है। नई कीमत 1जनवरी 2022से लागू हो चुकी है। कीमत में कटौती के बाद नई दिल्ली में 19किलोग्राम वाले गैस सिलिंडर की नई दर 1998.50रुपए हो गई।

घरेलू गैस सिलिंडर की कीमत में कोई बदलाव नहीं हुआ है। इससे पहले 1दिसंबर 2021को 19किलोग्राम वाले गैस सिलिंडर की कीमत में 100रुपए की बढ़ोतरी की गई थी। उसके बाद दिल्ली में यह कीमत 2101रुपए हो गई थी। उससे पहले 1नवंबर को भी कमर्शियल गैस सिलिंडर की कीमत में 266रुपए की बढ़ोतरी हुई थी, जिसके बाद यह कीमत 2000.50रुपए पर पहुंच गई थी।

यह भी पढ़ें- Petrol-Diesel से राहत लेकिन CNG और PNG ने दिया जनता को बड़ा झटका- इतने रुपए बढ़े दाम

बताते चलें कि, अब LPG रसोई गैस पर सब्सिडी केवल आर्थिक तौर पर कमजोर लोगों को ही देने की तैयारी की जा रही है। खबरों की माने तो, सरकार एलपीजी रसोई गैस सब्बिडी के नए दिशा निर्देश जारी करने की तैयारी कर रही है। इसेको लेकर फरवरी में पेश होने वाले बजट में ऐलान संभव है। इसके बाद LPG रसोई गैस पर मिलने वाली सब्सिडी सिर्फ कमजोर आर्थिक वर्ग में आने वाले लोगों को ही दी जाएगी।