अचानक तेजी से घूमने लगी है पृथ्वी, 29 जुलाई को सारा रिकॉर्ड टूटा, हैरत में आये Scientist

dharti.webp

तेजी से घूमने लगी है पृथ्वी

पृथ्वी 24घंटे में अपना एक चक्कर पूरा करती है और इसे ही एक पूरा दिन माना जाता है। हालांकि अब कुछ ऐसे सवाल उठ रहे हैं कि क्या पृथ्वी के अपने अक्ष पर परिक्रमा करने की गति में तेजी आ रही है। दरअसल, 29जुलाई को पृथ्वी ने सबसे छोटे दिन का अपना रिकॉर्ड तोड़ दिया और इसने मानक 24घंटे से 1.59मिलीसेकंड कम में ही परिक्रमा पूरी कर ली। 'द इंडिपेंडेंट' की रिपोर्ट के अनुसार पृथ्वी हाल ही में अपनी गति बढ़ा रही है। साल 2020में पृथ्वी ने 1960के बाद अपना सबसे छोटा महीना दर्ज किया था। उस साल 19जुलाई को अब तक का सबसे छोटा दिन मापा गया था। सामान्य 24घंटे के दिन से यह 1.47मिलीसेकंड कम था।

पृथ्वी तेजी से क्यों घूम रही है?

यह अभी भी एक रहस्य है, लेकिन कुछ सिद्धांतों से हम इसे इस तरह से समझ सकते हैं।

 1. ग्लेशियरों के पिघलने से

 2. हमारे ग्रह के आंतरिक पिघले हुए कोर की वजह से

3. भूकंप की वजह से

इंडिपेंडेंट की रिपोर्ट के मुताबिक, पृथ्वी ने हाल के दिनों में अपनी स्पीड काफी तेजी से बढ़ाई है। साल 2020में पृथ्वी की तेज गति के चलते जुलाई का महीना सबसे छोटा देखा गया। इससे पहले, ऐसी स्थिति साल 1960के दशक में देखी गई थी। 19जुलाई को अब तक का सबसे छोटा दिन मापा गया था। क्योंकि इस दिन पृथ्वी ने अपना चक्कर 1.47मिलीसेकंड में ही पूरा कर लिया था। जबकि इस साल 26जुलाई को धरती 1.50मिलीसेकंड में पूरी घूम गई। रिपोर्ट के मुताबिक, पृथ्वी की गति में निरंतर बढ़ोतरी देखी जा रही है। हालांकि ज्यादा लंबी अवधि में देखा जाए तो पृथ्वी का चक्कर स्लो हो रहा है। धरती एक चक्कर पूरा करने में जितना मिलीसेकंड का समय लेती थी, अब हर सदी में उससे ज्यादा वक्त ले रही है।

वैज्ञानिक का क्या कहना?

वैसे, पृथ्वी के घूमने की अलग-अलग गति की वजह के बारे में अभी भी वैज्ञानिक ठोस कारण पता नहीं लगा सके हैं। हालांकि उनका अनुमान है कि ऐसा पृथ्वी के कोर के अंदरुनी या बाहरी सतह की प्रक्रियाओं, महासागरों, ज्वार या यहां तक ​​कि जलवायु में परिवर्तन आदि की वजह से हो सकता है।