कारगिल युद्ध से क्या था माधुरी दीक्षित का रिश्ता...पाकिस्तानियों ने खुद खोला इसका राज!

madhuri_madhuri.jpg

photo courtesy Google

बॉलीवुड एक्ट्रेस माधुरी दीक्षित आज भी लाखों-करोड़ों के दिलों पर राज करती है। उनका जन्म 15 मई 1967 को मुंबई में हुआ था। वो एक मराठी ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखकी है। बचपन से ही माधुरी एक्ट्रेस बनने का ख्वाब संजोती थी। 17 साल की उम्र में उन्होंने अपने करियर की शुरुआत फिल्म 'अबोध' से की, लेकिन फिल्म बुरी तरह फ्लॉप हुई। पर फिल्म में माधुरी की एक्टिंग की जमकर तारीफें हुई। माधुरी दीक्षित ने कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया और इंडस्ट्री में अपना एक अलग मुकाम पाया।

माधुरी दीक्षित अपने समय में सबसे महंगी एक्ट्रेसेस में से एक थी। उन्होंने तेजाब, राम लखन, परिंदा, साजन, खलनायक, दिल, बेटा, हम आपके हैं कौन, दिल तो पागल है, लज्जा, पुकार, देवदास जैसी फिल्मों में अपनी अदाकारी से अपने नाम का लोहा मनवाया था। ये बात बहुत कम लोग जानते होंगे कि एक बार पाकिस्तान ने कश्मीर के बदले उन्हें मांगा था। जी हां, पाकिस्तान ने कश्मीर के बदले माधुरी दीक्षित को मांगा था। उस वक्त माधुरी दीक्षित के न सिर्फ भारत में बल्कि पाकिस्तान में भी लाखों फैंस थे और आज भी है।

माधुरी के पोस्टर पाकिस्तानी लड़के अपने घरों में सजाते थे। फोटो के जरिए वो हर घर में नजर आती थी। हर किसी का सपना माधुरी से मिलने का था। ये किस्सा कारगिल युद्ध के दौरान का है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, जब बॉर्डर पर जंग छिड़ी थी तो पाकिस्तानियों ने कहा था, कि हम कश्मीर छोड़ देंगे अगर तुम हमें माधुरी दीक्षित दे दो। बस फिर क्या था भारतीय सैनिकों ने अपने जोशीले अंदाज में ही पाक सेना को इसका जवाब दिया।माधुरी दीक्षित ने पुरस्कार पद्म श्री समेत दर्जनों प्रतिष्ठित अवार्ड अपने नाम किए। वहीं माधुरी हिंदी सिनेमा जगत की एक ऐसी अदाकारा हैं जिन्हें 14 बार फिल्मफेयर पुरस्कार का नॉमिनेट किया गया। जिनमें वो चार बार विनर रही।

Covid-19 In India