बिहार: नीतीश कुमार के जबड़े में निकला ट्यूमर, डॉक्टर्स ने मुंह से निकाले 82 दांत, 3 घंटे चली सर्जरी

IGIMS.jpg

नीतीश कुमार के जबड़े में निकला ट्यूमर

बिहार के एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। आपने अब तक किसी के मुंह में दातों की संख्या 32 सुनी होगी लेकिन बिहार में एक लड़के के मुंह में 82 दांत निकले। डॉक्टर भी यह देखकर हैरान हो गए। ये 82 दांत सामान्य दांतों से अलग थे और समय के साथ बढ़ भी रहे थे। नीतीश दिल्ली से लेकर देश के कई बड़े शहरों में इलाज के लिए दौड़े, लेकिन डॉक्टरों की पकड़ में मामला नहीं आया।

नीतीश कुमार को 5 साल से निचले दोनों जबड़े में परेशानी थी। दोनों जबड़े काफी फूल गए थे। दोनों कान के नीचे सूजन के कारण चेहरा भी काफी विकृत हो गया था। वह दिल्ली, कोलकाता, वाराणसी के साथ कई बड़े शहरों में इलाज के लिए भटका, लेकिन कहीं से डिटेक्ट नहीं हो पा रहा था।

डॉक्टरों ने बताया कि चोट के कारण जबड़े में सूजन है, बाद में सही हो जाएगा। कुछ जगह तो दवा देकर भेज दिया गया, लेकिन कोई राहत नहीं मिली। IGIMS के एक सीनियर डॉक्टर मनीष मंडल ने जानकारी देते हुए कहा कि भोजपुर जिले का रहने वाला नीतीश कुमार पिछले 5 सालों से जबड़े के ट्यूमर से परेशान था। उन्होंने बताया कि नीतीश की उम्र महज 17 साल है। डॉ। मंडल के मुताबिक नीतीश पहले राज्य के अलग अलग अस्पतालों में इलाज के लिए गया था लेकिन कहीं भी उसे ठीक इलाज नहीं मिला इसके बाद वह आईजीआईएमएस आया।

उन्होंने कहा कि नीतीश का पहले टेस्ट किया गया इसके बाद पता चला कि वह जबड़े में ट्यूमर की समस्या से ग्रसित है। इसके बाद मैग्जिलोफेशियल यूनिट से डॉ। प्रियंकर सिंह और डॉ। जावेद ने अपनी टीम के साथ मिलकर ट्यूमर का किया। उन्होंने बताया कि ट्यूमर में करीब छोटे छोटे 82 दांत थे जिन्हें बड़ी जटिलटा के साथ निकाला गया।

IGIMS के मैग्जिलोफेशियल यूनिट के HOD डॉ। प्रियंकर सिंह ने अपने सहयोगी डॉ। जावेद इकबाल के साथ मिलकर शुक्रवार को यह जटिल ऑपरेशन किया है। डॉ। प्रियंकर ने बताया कि उन्हें ट्यूमर के बारे में जांच से पता चल गया था और यह भी पता था कि उसमें दांत या फिर दांत बनने वाले पदार्थ हैं, लेकिन ऑपरेशन के बाद वह भी हैरान हो गए जब दांताें का गुच्छा सामने आया। ट्यूमर के साथ लगभग 82 दांत, जो ट्यूमर के अंदर थे उन्हें बड़ी बारीकी से निकाला गया। डॉ। प्रियंकर सिंह और डाॅ। जावेद इकबाल ने बताया कि यह जबडे़ का ऑपरेशन अपने आप में इतिहास है।