नेपाल में कुदरत का कहर- भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात, तीन भारतीय समेत 23 लोग लापता

Heavy_Rains_Lash_Nepal.jpg

नेपाल में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात

नेपाल में मूसलाधार बारिश के बाद आई बाढ़ ने जलप्रलय मचाया हुआ है। मध्य नेपाल में  बादल फटने की आशंका के चलते पूरे इलाका टापू में बदल गया है, इलाके में रहने वाले सैकड़ों परिवारों ने मुख्य बाजार चौक से कुछ सौ मीटर की दूरी पर स्थित एक स्थानीय स्कूल में शरण ली है। वहीं, सिंधुपाल चौक में अचानक आई बाढ़ में कई लोगों के बहने की संभावना जताई जा रही है। बारिश की वजह से नेपाल के कुछ हिस्सों में बाढ़ के चलते पुलों, बिजली और संचार के अन्य बुनियादी ढांचों को भी नुकसान पहुंचा है।

बादल फटने से लापता हुए 26 लोग

खबरों की माने तो तीन भारतीय समेत इसमें 23 लोग लापता हो गए हैं, इसमें चीनी लोग भी शामिल हैं। कहा जा रहा है कि मध्य नेपाल में पिछले चार दिनों से लगातार भारी बारिश हो रही है। बारिश के चलते जगह-जगह जल जमाव की स्थिति पैदा हो गई है। गुरुवार की सुबह सिंधुपाल चौक में अचानक बादल फट गया। जिसमें 26 लोग लापता हो गए हैं। रेस्क्यू ऑपरेशन चालू है। वहीं, नेपाल में रही बारिश का असर कुछ भारतीय क्षेत्रों में भी दिख रहा है, बिहार की गंडक नदी में पानी का स्तर काफी ज्यादा बढ़ गया है।

स्वास्थ्य एवं जनसंख्या मंत्री शेर बहादुर तमांग ने कहा कि मेलम्ची और इंद्रावती नदियों में आई बाढ़ में 30 से ज्यादा लोग लापता हैं। बाढ़ ने मेलम्ची पेय जल आपूर्ति परियोजना टिम्बू बाजार, चनाउत बाजार, तालामारंग बाजार और मेलम्ची बाजार में बांध को भी नुकसान पहुंचाया है।

वहीं, मेलम्ची नदी के किनारे स्थित गांवों में करीब 300 झोपड़ियां बह गईं। लामजुंग जिले में भी कई घर पानी में बह गए। अधिकारियों ने बताया कि निचले इलाके में करीब 200 घरों पर खतरा मंडरा रहा है। सिंधुपाल चौक के मुख्य जिला अधिकारी अरुण पोखारेल ने बताया कि नेपाल पुलिस सेना और सशस्त्र पुलिस बल की ओर से युद्धस्तर पर राहत एवं बचाव अभियान जारी है।