महाशय धर्मपाल गुलाटीः 5वीं पास तांगे वाला जो बना सबसे ज्यादा कमाई वाला CEO

Dharampal-Gulati.png

महाशय धर्मपाल गुलाटीः 5वीं पास तांगे वाला जो बना सबसे ज्यादा कमाई वाला CEO

मसालों के बादशाह महाशय धर्मपाल गुलाटी अब इस दुनिया में नहीं रहे। 98 वर्ष की आयु में उन्होंने दिल्ली के एक अस्पताल में गुरुवार सुबह अंतिम सांस ली। महाशियां दी हट्टी (MDH) के मालिक धर्मपाल गुलाटी आखिरी समय तक सक्रिय रहे। काम करने के प्रति उनकी लगन ही थी कि एक तांगे वाले से वो मसाला किंग बनने में सफल रहे। महाशय ने साबित किया कि प्रोडक्ट अच्छा हो तो उसके लिए किसी स्टार से प्रचार कराने की जरूरत नहीं होती। वो अपने प्रोडक्ट 'एमडीएच मसालों' के ब्रांड एंबेसडर खुद बने। मार्केटिंग की दुनिया और कुछ नया आजमाने वालों के लिए महाशियां दी हट्टी (MDH) के मालिक <a href="https://en.wikipedia.org/wiki/Mahashay_Dharampal_Gulati"><strong><span style="color: #000080;">धर्मपाल गुलाटी</span></strong></a> का ये फॉर्मूला सफलता का मंत्र है। महाशय की जीवन यात्रा प्रेरित करती है कि कठिन परिश्रम और आत्मविश्वास से कामयाबी हासिल की जा सकती है। महाशय धर्मपाल ने पांचवीं तक की पढ़ाई की थी और अपने दम पर FMCG सेक्टर के सबसे ज्यादा कमाई करने वाले CEO बने। यह भी पढ़ सकते हैं- <a href="https://hindi.indianarrative.com/india/mdh-owner-mahashay-dharampal-gulati-passes-away-in-delhi-he-was-97-20050.html">मसालों के बादशाह महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन</a> <p class="synopsis">धर्मपाल गुलाटी का जन्म 27 मार्च 1923 को सियालकोट (अब पाकिस्तान में) में हुआ था। विभाजन के समय इनका परिवार भारत आ गया। अमृतसर में शरणार्थी शिविर में रहने के बाद दिल्ली आए। दिल्ली में रोजगार का संकट सामने था। कुल पूंजी 1500 रुपये में से 650 रुपये का तांगा खरीदा और चलाने लगे। लेकिन महाशय की किस्मत में कुछ और ही लिखा था।</p> <strong>मसाला व्यापार की शुरुआत </strong> तांगा अपने भाई को देने के बाद महाशय धर्मपाल ने करोलबाग में अजमल खां रोड पर मसालों की एक छोटी सी दुकान खोली। महाशियां दी हट्टी (MDH) के नाम से मसाले का व्यापार शुरू किया। कुछ ही समय में मसालों का स्वाद लोगों को पसंद आने लगा और दुकान फेमस हो गई। मसालों की बढ़ती डिमांड को देखते हुए महाशय ने 1959 में दिल्ली के कीर्ति नगर में मसाला फैक्ट्री शुरू की। <strong>2000 करोड़ की ब्रांड वैल्यू</strong> महाशय धर्मपाल की मेहनत का ही नतीजा है कि एमडीएच की मौजूदा ब्रांड वैल्यू तकरीबन 2000 करोड़ रुपये है। भारत और दुबई में एमडीएच की कुल 18 फैक्ट्रियां स्थापित हैं। जहां से कई देशों में मसालों की सप्लाई की जाती है। एमडीएच के लगभग 62 उत्पाद बाजार में मौजूद हैं। कंपनी के अनुसार उत्तर प्रदेश में करीब 80 प्रतिशत बाजार पर उसका कब्जा है। <strong>पांचवीं पास 'महाशय' सबसे महंगे सीईओ </strong> महाशय धर्मपाल गुलाटी सिर्फ पांचवीं पास थे। लेकिन हुनर से व्यापार जगत में उन्होंने अपना लोहा मनवाया। महाशय को सबसे उम्रदराज एड स्टार भी माना जाता है। वो अपनी कंपनी के ब्रांड एंबेसडर थे और खुद ही ब्रांडिंग करते थे। महाशय धर्मपाल FMCG सेक्टर में सबसे महंगे सीईओ भी हैं। यूरोमॉनिटर के अनुसार महाशय धर्मपाल सबसे ज्यादा कमाई करने वाले सीईओ हैं। 2018 में उनकी सालाना कमाई 25 करोड़ रुपये थी। हालांकि वो अपनी कमाई का 90 प्रतिशत चैरिटी में दान कर देते थे।.