Follow Us:

पाकिस्तानी साजिश का शिकार साजिद!

पाकिस्तानी साजिश का शिकार साजिद! आतंक की राह को अलविदा कहकर, सुरक्षाबलों के सामने समर्पण के बाद साजिद की अपने पिता से मुलाकात हुई तो भावनाओं का सैलाव आंखों से आसूं बन बह निकला। जुबान व्याकुलता के बाड़े से बाहर थी। ‘कलेजे के टुकड़े’ को जिंदा देख पिता ने कलेजे से लगा लिया। बेवश पिता पूछ रहा था आखिर उसने (बेटे ने) आतंक का रास्ता क्यों चुना? पिता बोला- मैंने खुद नंगा-भूखा रहकर तुझे पाला, तूने हमें ना उम्मीद क्यों कर दिया?

अपडेटेड October 27, 2020 16:44 IST
To Top