लद्दाख पर आंखें गड़ाए बैठे चीन को जोरदार झटका! फिलीपींस ने भारत के साथ ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल खरीद को दी मंजूरी

Brahmos-Missile-Deal-Philippines-India-China.webp

courtesy google

चीन की दादागिरी से जूझ रहे फिलीपींस ने भारत के साथ दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक एंटी शिप क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की खरीद को मंजूरी दे दी है। जल्‍द ही दोनों देशों के बीच समझौते पर हस्‍ताक्षर होगा। ये चीन के लिए सबसे तगड़ा झटका है। यह पूरी मिसाइल डील करीब 37 करोड़ 40 लाख डॉलर की होगी। इस संबंध में ब्रह्मोस मिसाइल के लिए यह पहला विदेशी आर्डर है। आपको बता दें कि फिलीपींस अमेरिका का सहयोगी देश है लेकिन चीन के खिलाफ सैन्‍य तैयारी के लिए उसने भारत-रूस द्वारा मिलकर बनाई गई ब्रह्मोस मिसाइल पर भरोसा जताया है।

यह भी पढ़ें- कोरोना से लड़ाई में इमरान खान ने दिया हिन्दुस्तान का उदाहरण, बोला- 'पाकिस्तान की हालत भारत से ​बेहतर'

माना जा रहा है कि जल्‍द ही चीन का एक और पड़ोसी देश वियतनाम भी भारत के साथ ब्रह्मोस मिसाइल का समझौता कर सकता है। दोनों ही देशों के बीच इस मिसाइल डील को लेकर बातचीत चल रही है। इंडोनेशिया समेत कई देशों और कई खाड़ी देशों ने मिसाइल खरीदने में रुचि दिखाई है। ब्रह्मोस एयरोस्पेस भारत-रूस संयुक्त उद्यम है और यह सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों का उत्पादन करता है जिन्हें पनडुब्बियों, पोतों, विमानों या जमीन से प्रक्षेपित किया जा सकता है। यह क्रूज मिसाइल ध्वनि की गति से लगभग तीन गुना की गति से उड़ान भरती है। यह संस्करण लगभग 290 किलोमीटर दूरी तक मार सकता है।

यह भी पढ़ें- क्ररूता पर उतरा ड्रैगन! गर्भवती महिलाएं, बच्चों और बुजुर्गों को जबरन बक्से में कैद रहा चीन, देखें वीडियोज

पिछले कुछ दिनों में फिलीपीन ने अपने सशस्त्र बलों के आधुनिकीकरण के लिए कई रक्षा सौदे किए हैं। इससे पहले रूसी मिशन के उप प्रमुख रोमन बाबुश्किन ने कहा था कि भारत और रूस, फिलीपींस और कई अन्य देशों को ब्रह्मोस मिसाइल निर्यात करने की योजना बना रहे हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि इस खरीद से फिलीपींस के साथ भारत के रणनीतिक संबंधों के आगे बढ़ने की उम्मीद है। फिलीपीन दक्षिण चीन सागर में चीन के साथ अपने लंबे समय से चले आ रहे टकराव के मद्देनजर अपनी नौसेना को मजबूत बना रहा है। फिलीपीन्‍स के दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक मिसाइल लेने के फैसले से उसकी सेना की ताकत काफी बढ़ जाएगी। इस मिसाइल के जरिए फिलीपींस अपने तटीय इलाकों की रक्षा कर सकेगा। फिलीपींस का चीन के साथ साउथ चाइना सी में अधिकार को लेकर विवाद चल रहा है।