चीन का सलामी स्‍लाइसिंग! भारतीय जमीन पर कब्जा करने के लिए कर रहा इस्‍तेमाल, जाने ड्रैगन की ये खतरनाक चाल?

china-india-border.webp

courtesy google

चीन और भारत के बीच पूर्वी लद्दाख को लेकर एलएसी पर तनाव जारी है। सीमा पर स्थिति अभी भी नाजुक बनी हुई है। चीन जानबूझकर एलएसी को तनावग्रस्त सीमा बनाए रखना चाहता है। दरअसल, वो एक खास तरह की रणनीति पर काम कर रहा है। जिसका नाम है 'सलामी स्‍लाइसिंग'...  किसी मुल्क की ओर से अपने पड़ोसी देशों के खिलाफ छोटे-छोटे सैन्य ऑपरेशन के जरिये धीरे-धीरे किसी बड़े इलाके पर कब्जा कर लेने की नीति को 'सलामी स्लाइसिंग' कहा जाता है। आपको बता दें कि हाल ही में चीन ने अरूणाचल प्रदेश के एक युवक को अगवा कर लिया था। जिसके बाद से तनाव और बढ़ गया। 

यह भी पढ़ें- यूक्रेन और रुस के बीच शुरू हो सकता है युद्ध!, अमेरिका ने अपने दूतावास को देश छोड़ने का दिया आदेश

लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले स्थानीय लोग और स्थानीय प्रतिनिधि पिछले 20 सालों से यह शिकायत करते आ रहे हैं कि चीन 'मीटर दर मीटर और मील दर मील' उनके पारंपरिक चारागाह वाले इलाकों में अतिक्रमण कर रहा है। चीन की ओर से सीमा पर विवादित इलाके में सैन्य गांवों का निर्माण और अब हाल ही में अरुणाचल प्रदेश के भीतर से एक युवा को अगवा किया जाना पड़ोसी देश की लंबे समय से अनुसरण की जा रही 'सलामी स्लाइसिंग' रणनीति का प्रसार है।

यह भी पढ़ें- अमेरिका ने लिया चीन से बदला, बाइडन के झटके से हिला ड्रैगन

आपको बता दें कि यह पहली बार नहीं है कि अतिक्रमण करने वाले चीनी सैनिकों ने अरुणाचल प्रदेश से किसी युवा को अगवा किया हो। चीनी सैनिकों की ओर से भारतीय क्षेत्र में घुस आना और युवाओं को अगवा कर लेना अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के स्थानीय लोगों के दावे का समर्थन करता है कि चीन बगैर गोली की आक्रामकता के जरिये उनकी जमीनों पर कब्जा करता जा रहा है। चीन की हिमालयी क्षेत्र में आक्रामता, युद्ध के खतरे और पिछले लगभग 21 महीने से जारी तनावपूर्ण सैन्य गतिरोध के बावजूद भारत डटा हुआ है। भारत के प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच आमने-सामने की 18 बैठकों के बावजूद चीन ने एलएसी को हॉट बार्डर बनाए रखने समेत भारत से स्थायी दुश्मनी रखने का बीड़ा उठा रखा है।