अमेरिका ने एक झटके में मरोड़ी ड्रैगन की गर्दन- जो बाइडेन ने कहा- ताइवान पर हमले की सोचना भी मत चीन वरना...

अमेरिका-ने-एक-झटके-मरोड़ी-ड्रैगन-की-गर्दन.webp

अमेरिका ने एक झटके में मरोड़ी ड्रैगन की गर्दन

अमेरिका ने ऐलान करते हुए कहा है कि, अगर चीन ने ताइवान पर हमला किया तो उसकी रक्षा अमेरिका करेगा। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने साफ तौर पर चीन को चेतावनी देते हुए कहा है कि चीन ने अगर ताइवान पर हमला किया तो हम उसकी रक्षा करेंगे। बाइडेन के इस बयान के बाद चीन और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ने की आशंका और ज्यादा बढ़ गई है।

यह भी पढ़ें- FATF के एक्शन के बाद टूटी पाकिस्तान की रीढ़ की हड्डी- बैंकों से कर्ज तो दूर आलू-प्‍याज तक नहीं खरीद पाएंगे Imran Khan

जो बाइडेन ने गुरुवार को कहा कि अमेरिका ताइवान की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। चीन हमेशा ताइवान को अपना क्षेत्र बताता है। CNN टाउन हॉल में एक सवाल में जवाब में बाइडेन ने कहा, हां, हम इसे लेकर प्रतिबद्ध हैं। बता दें कि, अमेरिका ताइवान के लिए अब तक डिफेंस इन्फ्रास्ट्रक्चकर तैयार करता रहा है, लेकिन खुलकर कभी सामने नहीं आया था। अमेरिका ने सालों से ताइवान को लेकर रणनीतिक अस्पष्टता की नीति को बनाए रखा है, जिसके तहत वह ताइवान को प्रमुख सैन्य सहायता देता रहा है, लेकिन चीनी हमले के दौरान सुरक्षा की गारंटी नहीं देता है। इधर चीन पिछले कुछ समय से ताइवान पर सैन्य और राजनीतिक दबाव बना रहा है।

 

इसके साथ ही, व्हाइट हाउस ने रिपोर्टर्स से कहा है कि, ताइवान को लेकर अमेरिकी नीति में बदलाव नहीं हुआ है। प्रवक्ता ने कहा है कि, ताइवान के साथ अमेरिकी रक्षा संबंध ताइवान संबंध अधिनियम द्वारा निर्देशित हैं। हम अधिनियम के तहत अपनी प्रतिबद्धता को कायम रेखेंगे, हम ताइवान की आत्मरक्षा का समर्थन करना जारी रखेंगे और हम यथास्थिति में किसी भी एकतरफा बदलाव का विरोध करना जारी रखेंगे।

यह भी पढ़ें- FATF की ग्रे लिस्ट में रहेगा पाक, दाउद-हाफिज सईद और अजहर मसूद जैसे आतंकियो को पालना पड़ा भारी, इमरान की लुटिया डूबी

गौर हो कि, इधर बीच चीन लगातार ताइवान पर दबाव बना रहे हैं और अपने दर्जनों विमानों को 1 अक्टूबर के बाद से लगातार उसके शैन्य क्षेत्र में भेज रहा है। ताइवान के रक्षा मंत्री चीउ कुओ-चेंग ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि ताइवान जलडमरूमध्य में सैन्य तनाव 40 से अधिक वर्षों में सबसे खराब स्थिति में पहुंच गया है और चीन 2025 तक पूर्ण पैमाने पर आक्रमण करने में सक्षम होगा। वहीं, इस महीने की शुरुआत में ही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने सुझाव दिया था कि ताइवान पर चीन और अमेरिका के बीच एक समझौता हुआ था।