धधकते सूरज को छूने वाला दुनिया का पहला अंतरिक्षयान, जानें कैसे कोरोना से होकर गुजरा NASA का पार्कर सोलर प्रोब

parker-solar-probe.webp

courtesy google

अंतरिक्ष के रहस्यों को जानने के लिए वैज्ञानिक कई उपलब्धियां हासिल कर रहे है। इस कड़ी में वैज्ञानिकों को एक और बड़ी सफलता हाथ लगी है। दरअसल, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का पार्कर सोलर प्रोब सूरज को छूने वाला दुनिया का पहला अंतरिक्षयान बन गया है। नासा के इस प्रोब ने सूरज का दामन छू लिया है। इसकी जानकारी नासा के वैज्ञानिकों ने खुद अमेरिकी जियोफिजिकल यूनियन की बैठक के दौरान दी। वैज्ञानिकों ने बताया कि पार्कर सोलर प्रोब अप्रैल महीने में सूरज के पास से अपनी 8वीं यात्रा के दौरान कोरोना से होकर गुजरा था।

यह भी पढ़ें- Virat Kohli के विवादों के बीच Anushka Sharma को इस फिल्म से किया गया बाहर, इस एक्ट्रेस को किया रिप्लेस 

आपको बता दें कि पार्कर सोलर प्रोब को साल 2018 में लॉन्च किया गया था। पार्कर ने 28 अप्रैल को सूर्य के वातावरण के बाहरी हिस्से यानी कोरोना में प्रवेश किया था। पार्कर ने जब पहली बार सौर वातावरण और सौर हवाओं को पार किया था, तब वह सूर्य के केंद्र से 13 मिलियन किलोमीटर दूर था। वैज्ञानिकों ने बताया कि इस दौरान अंतर‍िक्ष यान पार्कर सोलर प्रोब कम से कम तीन बार कोरोना के अंदर घुसा था। कई चुनौतियों को पार कर पार्कर यान सूरज के करीब पहुंचने की कोशिश कर रहा है। अपने सफर के दौरान यान कई बार कोरोना से होते हुए गुजरेगा।

यह भी पढ़ें- रश्मिका मंदाना को हुस्न दिखाना पड़ा महंगा, पैरों की पॉजिशन चेंज करते ही Oops Moment का हुईं शिकार

इस कड़ी में 2025 में यान सूर्य से 61.6 लाख किलोमीटर की दूरी तक पहुंचेगा। यह सूर्य से इसकी सर्वाधिक नजदीकी होगी। प्राथमिक आंकड़ों से पता चलता है कि पार्कर अगस्‍त महीने में अपनी 9वीं यात्रा के दौरान कोरोना के अंदर चला गया, लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी और अधिक विश्‍लेषण की आवश्यकता है। पार्कर ने पिछले महीने ही सूरज के नजदीक अपनी 10वीं यात्रा को पूरा किया है। पार्कर आगे लगातार सूरज के करीब आता रहेगा और साल 2025 में अपनी ग्रैंड फिनाले में कक्षा में प्रवेश करेगा।