अंतरिक्ष में मिला अब तक का सबसे बड़ा एलियन ग्रह, बृहस्पति के आकार से 11 गुना बड़ा, देख वैज्ञानिक भी हुए हैरान

Centaurus-constellation.webp

courtesy google

सालों से दुनियाभर के वैज्ञानिक अंतरिक्ष में होने वाली गतिविधियों पर नजर जमाए हुए हैं। इस दौरान वैज्ञानिकों को नए-नए ग्रह भी मिलते रहते हैं। वहीं कभी-कभी अंतरिक्ष में ऐसे नजारे भी दिख जाते हैं, जिन्हें देखकर वैज्ञानिक भी हैरान हो जाते हैं। इस कड़ी में एस्ट्रोनॉमर्स ने अब तक का सबसे बड़ा एक्सोप्लैनेट खोज निकाला है। इस एलियन ग्रह को देख कर वैज्ञानिक हैरान हैं। दरअसल, वैज्ञानिकों को इसके पहले इस बी सेंटॉरी ग्रहों के सिस्टम के आसपास ऐसा कोई ग्रह नहीं दिखा था।

यह भी पढ़ें- महंगे पेट्रोल-डीजल से मोदी सरकार को हुई मोटी कमाई, जानें तिजोरी में कितने करोड़ रुपए हुए जमा

एक्सोप्लैनेट बी सेंटॉरी ग्रहों के बाइनरी सिस्टम के तारे के चारों ओर घूम रहा है। आपको बता दें कि हमारे सौर मंडल से बाहर 325 प्रकाश वर्ष दूर बी सेंटॉरी सेंटॉरस नक्षत्र में स्थित है। बी सेंटॉरी का मुख्य तारा हमारे सूर्य से तीन गुना से भी ज्यादा गर्म होने के साथ ही इसके दो अन्य दूसरे तारों का वजन सूर्य के 6 से 10 गुना ज्यादा है। अभी तक ऐसा कोई ग्रह नहीं मिला था जो हमारे सूरज के मास से तीन गुना ज्यादा वजन का हो। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बी सेंटॉरी बी का वायुमंडलीय मिश्रण बृहस्पति ग्रह के अनुरूप है। हालांकि यह बृहस्पति ग्रह से 10 गुना से ज्यादा बड़ा है।

यह भी पढ़ें- IND vs PAK: वर्ल्ड कप 2022 के पहले होगा भारत-पाकिस्‍तान का महामुकाबला, ICC ने किया बड़ा ऐलान

एक्सोप्लैनेट मुख्य तारे से तकरीबन 8368 करोड़ किलोमीटर दूर है। यह एक्सोप्लैनेट अपने तारे के चारों तरफ सबसे बड़ी कक्षा में घूम रहा है. गौरतलब है कि अभी तक इतनी बड़ी कक्षा की खोज भी नहीं हुई थी। चिली स्थित यूरोपियन साउदर्न ऑब्जरवेटरी के वेरी लार्ज टेलिस्कोप से खगोलविदों ने इस ग्रह की तस्वीरें ली थीं। नेचर जर्नल में हाल ही में इसको लेकर किया गया अध्ययन प्रकाशित हुआ है। स्वीडन स्थित स्टॉकहोम यूनिवर्सिटी के एस्ट्रोनॉमर मार्कस जैन्सन का कहना है कि बी सेंटॉरी की खोज से बड़े तारों और ग्रहों को लेकर पुरानी मान्यताएं पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है।